Government of India Emblem

प्रशिक्षण

इस संस्थान में संगीत पाठ्यक्रम का बहुत महत्वपूर्ण अभिन्न अंग है। यह विषय शैक्षणिक, व्यावसायिक, सांस्कृतिक और अध्यापक पाठ्यक्रम से जरूरी है। संगीत वाद्य यंत्र, वोकल, और तबला के विषय में निर्देश उच्च योग्य, प्रशिक्षित और अनुभवी शिक्षकों द्वारा दिए जाते हैं।
संगीत सभी वर्गों में अनिवार्य विषयों में से एक है। शिक्षाविदों के अलावा, यह विषय हमारे छात्रों के लिए व्यवसाय के रूप में बहुत उपयोगी है। हमारे कई छात्र सरकारी नौकरी और अर्ध-सरकारी संगठन में कार्यरत हैं संगीत शिक्षक, तबला प्रशिक्षकों, गिटार खिलाड़ी और सितार कलाकारों के रूप में।

कम्प्यूटर प्रशिक्षण हमारे पाठ्यक्रम का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि यह अध्ययन का विषय भी है। नेत्रहीन विकलांग बच्चों को पढ़ाने के लिए हमारे पास दो कंप्यूटर लैब हैं जो नवीनतम कंप्यूटरों और सॉफ्टवेयर से लैस हैं। हमारे पास जेडब्ल्यूएस, एनवीडीए और सुपर नोवा जैसे स्क्रीन पढ़ने के सॉफ्टवेयर हैं जिनकी मदद से हम अपने छात्रों को प्रशिक्षित करते हैं। हम कक्षा 2 के बाद के छात्रों को कंप्यूटर शिक्षा देने शुरू करते हैं। यह प्रशिक्षण वरिष्ठ माध्यमिक स्तर तक सही है। प्रशिक्षण बहुत ही योग्य और प्रशिक्षित कंप्यूटर प्रशिक्षकों द्वारा प्रदान किया जाता है।

 

गतिशीलता प्रशिक्षण दृष्टिबाधित व्यक्ति के विकास और कामकाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। दृष्टिबाधित छात्र को मुख्य रूप से सही ढंग से चलने की समस्याएं  आती हैं इन समस्याओं पर काबू पाने के लिए, छात्रों को शारीरिक व्यायाम और गतिशीलता प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। संस्थान के एक प्रशिक्षित और अनुभवी गतिशीलता प्रशिक्षक श्री डी.पी. पाठक (वार्डन) विद्यार्थियों को बाहरी गतिशीलता प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं।

 

12वीं स्तर तक औपचारिक शिक्षा के अतिरिक्त, छात्रों को परंपरागत शिल्प में प्रशिक्षित किया जाता है जैसे कपड़ा बुनाई, मोमबत्ती बनाने और कुर्सियों को बुनना आदि। आधुनिक तकनीक के साथ बच्चों को परिचित करने के लिए उन्हें स्क्रीन रीडिंग सॉफ्टवेयर के जरिए कंप्यूटर साक्षरता प्रशिक्षण भी दिया जाता है। छात्राओं को सिलाई, बुनाई, रसोई और कढ़ाई इत्यादि में प्रशिक्षित किया जाता है।